तत्‍कालीन डी.एफ.ओ. श्री संजय कुमार सिंह की हत्‍या के सम्‍बन्‍ध में चार आरोपियों को आजीवन करावास एवं एक अन्‍य को 10 वर्ष की कठोर कारावास की सजा सुनाई

प्रेस रिलीज
नई दिल्ली, 05.07.2017

जिला एवं सत्र न्‍यायाधीश सासाराम (बिहार) ने आज श्री संजय कुमार सिंह, तत्‍कालीन डी.एफ.ओ., शाहबाद मण्‍डल, सासाराम की हत्‍या के सम्‍दर्भ में पॉंच आरोपियों को सजा सुनाई। चार आरोपी यथा निराला यादव; राम बचन ; लल्‍लन सिंह तथा नीतीश कुमार ओरॉंन को 1,00,000 रू. जुर्माने सहित भारतीय दण्ड संहिता की धारा 302 के साथ पठित धारा 149 के तहत आजीवन कारावास ; पोटा की धारा 3(2)(ए) के तहत 1,00,000 रू. जुर्माने सहित आजीवन कारावास ; भारतीय दण्ड संहिता की धारा 148 के तहत तीन वर्ष की कठोर कारावास ; भारतीय दण्ड संहिता की धारा 353 के साथ पठित धारा 149 के तहत 02 वर्ष की कठोर कारावास ; भारतीय दण्ड संहिता की धारा 323 के साथ पठित धारा 149 के तहत 06 महीने की साधारण कारावास ; शस्‍त्र अधिनियम की धारा 27 के तहत 5000 रू. जुर्माने सहित 03 वर्ष की कठोर कारावास ; पोटा की धारा 22(5) के तहत 14 वर्ष की साधारण कारावास तथा पॉंचवें आरोपी सुदामा ओरॉंन को पोटा की धारा 20 के तहत 5000 रू. के जुर्माने सहित 10 वर्ष की कठोर कारावास की सजा सुनाई।

अदालत ने आगे निर्देश दिया कि दोषी नीतीश कुमार ओरॉंन, लल्‍लन सिंह तथा राम बचन की सभी सजाऍं साथ-साथ चलेंगी। समूह के कमाण्‍डर निराला यादव को पोटा की धारा 3(2)(ए) तथा भारतीय दण्ड संहिता की धारा 302 के साथ पठित धारा 149 के तहत आजीवन कारावास की शुरूवात से पहले ही पोटा की धारा 22(5) शस्‍त्र अधिनियम की धारा 27, भारतीय दण्ड संहिता की धारा 148, 353 के साथ पठित धारा 149 व 323 के तहत दी गई सजा काटना होगा तथा ये दोनो सजाऍं साथ-साथ चलेंगी।

सीबीआई ने बिहार सरकार के निवेदन एवं इसके अतिरिक्‍त भारत सरकार की अधिसूचना के आधार पर दिनांक 22.03.2002 को मामला दर्ज किया एवं नौहाता पुलिस स्‍टेशन, जिला रोहतास(बिहार) में दिनांक 15.02.2002 को पूर्व में दर्ज प्राथमिक सूचनारिपोर्ट (एफ.आई.आर.) संख्‍या-4/2002 को अपने हाथों में लिया। ऐसा आरोप था कि दिनांक 14.02.2002 को गॉंव रेहल के कुछ व्‍यक्ति श्री लालमुनि उर्फ बिलथ यादव की सुश्री शैल देवी से शादी के लिए गॉंव दालेली, जिला गढ़वा (झारखण्‍ड) गए एवं दिनांक 15.02.2002 को उन्‍हे वापस आना था। एरिया कमाण्‍डर श्री निराला यादव के नेतृत्‍व में हथियारों से लैश एम.सी.सी. नक्‍सलियों का एक समूह सुश्री शैल देवी, जिकी शादि पुर्व में एक नक्‍सली श्री राम बचन यादव के साथ लगभग तय भी, की शादी में व्‍यवधान डालने के लिए गॉंव रेहल में एकत्र हुए। इसके पश्‍चात, सुश्री शैल देवी की शादी श्री लालमुनी से तय की गई क्‍योकि सुश्री शैल देवी के परीवारिक सदस्‍यों को श्री राम बचन यादव के एम.सी.सी. कार्यकर्ता होने की बात पता चली थी। दिनांक 15.02.2002 को, जब श्री संजय कुमार सिंह, डी.एफ.ओ., शाहबाद मण्‍डल, सासाराम (बिहार) एवं उनके कर्मी गॉंव रेहल में वन रेंज कार्यालय पहुँचे, उन्‍हे पूर्व कथित नक्‍सलियों के द्वारा घेर लिया गया। नक्‍सलियों के द्वारा डी.एफ.ओ. से पॉंच लाख रू. की मॉंग की गयी लेकिन उन्‍होने देने से मना कर दिया। श्री संजय कुमार सिंह, डी.एफ.ओ. को नक्‍सलियों ने बल पूर्वक गॉंव से दूर जंगल के भीतर ले गए जहॉं पर एरिया कमाण्‍डर श्री निराला यादव के निर्देश पर उन्‍हे मार दिया गया।

गहन जॉंच के पश्‍चात, सीबीआई ने वर्ष 2006-2009 के दौरान आरोपी व्‍यक्तियों के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 147, 148, 149, 341, 323, 353, 302 तथा शस्‍त्र अधिनियम की धारा 27, पोटा अधिनियम की धारा 3(2)(1) एवं 22(5) के तहत आरोप पत्र/ पूरक आरोप पत्र दायर किया।

विचारण अदालत ने पॉंच आरोपियों को कसूरवार पाया तथा दिनांक 21.06.2017 को दोषी ठहराया।

********