सीबीआई ने बैंक से सम्‍बन्धित धोखाधड़ी के एक मामले की जारी जाँच में प्राइवेट कम्‍पनी के तीन निदेशकों एवं पंजाब नेशनल बैंक के दो तत्‍कालीन अधिकारियों को गिरफ्तार किया

प्रेस रिलीज
नई दिल्ली, 20.07.2017

सीबीआई ने एक मामले की जारी जॉंच में लुधियाना स्थित प्राइवेट कम्‍पनी के तीन निदेशकों तथा पंजाब नेशनल बैंक, ओवर लॉक रोड शाखा, लुधियाना (पंजाब) में कार्यरत दो बैंक कर्मियों अर्थात तत्‍कालीन मुख्‍य प्रबन्‍धक एवं तत्‍कालीन अधिकारी को गिरफ्तार किया।

पंजाब नेशनल बैंक, ओवरलॉंक रोड शाखा, लुधियाना के साथ 56 करोड़ रू. (लगभग) की धोखाधड़ी के आरोप पर लुधियाना स्थित प्राइवेट कम्‍पनी के तीन निदेशकों तथा उक्‍त प्राइवेट कम्‍पनी ; चार्टेड अकाउन्‍टेन्‍ट एवं अन्‍यों और अन्‍य अज्ञात बैंक कर्मियो व प्राइवेट व्‍यक्तियों के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420, 467, 468, 471 एवं भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम की धारा, 1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(डी) तथा उनके प्रमुख अपराधों के तहत मामला दर्ज हुआ।

ऐसा आगे आरोप था कि उक्‍त प्राइवेट कम्‍पनी के निदेशकों ने पंजाब नेशनल बैंक, ओवर लॉक रोड शाखा, लुधियाना के तत्‍कालीन शाखा प्रबन्‍धक एवं तत्‍कालीन अधिकारी (प्रभारी क्रेडिट) एवं अन्‍यों ने मिलकर आपराधिक षड़यंत्र किया तथा जाली दस्‍तावेजों के आधार पर व्‍यापार संचालन के लिए मंजूर नकद साख धनराशि को अन्‍य मद में लगाया और सावधि ऋणें से मशीनों की खरीद हेतु मंजूर धनराशि को बेईमानी से निकाल कर बैंक के साथ धोखाधड़ी की। ऐसा भी आरोप था कि उक्‍त आरोपी व्‍यक्तियों ने बैंक कर्मियों की मिली भगत में सावधि ऋण में से मशीनों के विदेशी आपूर्तिकर्ताओं के पक्ष में धनराशि विदेशों में स्‍थानान्‍तरित कर दी जो कि न तो वापस आयी न ही विदेश में भेजी गई धनराशि के बदले में मशीन प्राप्‍त हुई। उन्‍होने कई स्‍थानीय विक्रेताओं के माध्‍यम से सी.सी. धनराशि एवं सावधि ऋण को अन्‍य मद में लगाया। पंजाब नेशनल बैंक को 74 करोड़ रू. (लगभग) की कथित हानि हुई।

गिरफ्तार आरोपियों को आज सीबीआई मामलो के विशेष न्‍यायाधीश, मोहाली (पंजाब) के समक्ष पेश किया एवं दिनांक 25.07.2017 तक के लिए पुलिस हिरासत में भेजा गया।

********