पीडि़ता की हत्‍या के सम्‍बन्‍ध में दो आरोपियों को मृत्‍यु दण्‍ड

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 24.07.2017

सीबीआई मामलों के विशेष न्‍यायाधीश, गाजियाबाद (उत्‍तर प्रदेश) ने आज दो आरोपियों यथा सुरेन्‍द्र कोली एवं मोनिन्‍दर सिंह पंधेर को भारतीय दण्ड संहिता की धारा 302 के तहत 10,000 रू. जुर्माने सहित मृत्‍यु दण्‍ड की सजा दी। निठारी (उ.प्र.) में घटित मामलों में से एक मामला पीडि़ता के अपहरण, बलात्‍कार एवं हत्‍या से सम्‍बन्धित है। इसके अतिरिक्‍त, अदालत ने आरोपी सुरेन्‍द्र कोली को भारतीय दण्ड संहिता की धारा 364 के तहत 10,000 रू. जुर्माने के साथ आजीवन कारावास, भारतीय दण्ड संहिता की धारा 376/511 के तहत 10,000 रू. जुर्माने सहित 10 वर्ष की कठोर कारावास, भारतीय दण्ड संहिता की धारा 201 के तहत 5000 रू. के जुर्माने सहित 07 वर्ष की कठोर कारावास की सजा सुनाई। साथ-साथ ही, अदालत ने आरोपी मोनिन्‍दर सिंह पंधेर को भी भारतीय दण्ड संहिता की धारा 376 के साथ पठित भारतीय दण्ड संहिता की धारा 120-बी के तहत 5,000 रू. जुर्माने सहित 07 वर्ष की कठोर कारावास एवं भारतीय दण्ड संहिता की धारा 201 के साथ पठित भारतीय दण्ड संहिता की धारा 120-बी के तहत 5,000 रू. जुर्माने सहित 07 वर्ष की कठोर कारावास की सजा सुनाई।

सीबीआई ने उत्‍तर प्रदेश सरकार के निवेदन एवं इसके पश्‍चात, भारत सरकार की अधिसूचना पर श्री सुरेन्‍द्र कोली निवासी गॉंव मगरू खाल जिला अल्‍मोड़ा (उत्‍तराखण्‍ड) एवं श्री मोनिन्‍दर सिंह पंधेर, निवासी सेक्‍टर 27, चण्‍डीगढ़ के विरूद्ध दिनांक 11.01.2007 को मामला दर्ज किया। ऐसा आरोप था कि आरोपी सुरेन्‍द्र कोली ने डी.-5, सेक्‍टर-3,नोएडा (उ.प्र.) निवासी पीडि़ता का बलात्‍कार एवं हत्‍या की है। जॉंच के पश्‍चात, सीबीआई मामलों के विशेष न्‍यायाधीश, गाजि़याबाद (उ.प्र.) की अदालत में दिनांक 11.04.2007 को आरोप पत्र दायर हुआ। दिनांक 04.06.2007 को आरोप सिद्व हुए।।

विचारण अदालत ने आरोपी व्‍यक्तियों को कसूरवार पाया व उन्‍हे दिनांक 21.07.2017 को दोषी ठहराया।

 

 

  

********