यौन शोषण के मामले में गुरूमीत राम रहीम सिंह को 20 वर्ष की कठोर कारावास एवं 30,20,200 रू. जुर्माना

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 28.08.2017

सीबीआई मामलों के विशेष न्‍यायाधीश ने आज डेरा सच्‍चा सौदा में दो साध्वियों के यौन शोषण से सम्‍बन्धित मामले में डेरा सच्‍चा सौदा, सिरसा (हरियाणा) के प्रमुख श्री गुरूमीत राम रहीम सिंह को निम्‍नलिखित सजाएँ सुनाई:


पीडि़ता-ए

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 376 तहत किए गए अपराध में

15 लाख रू. जुर्माने (जिसमें से 14 लाख रू. मुआवजा के तौर पर पीडि़ता-ए को दिए जाएंगे) के साथ 10 वर्ष की कठोर कारावास। जुर्माना न भरने की दशा में 02 साल की अतिरिक्‍त कठोर कारावास

 

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 506 के तहत किए गए अपराध में

10,000 रू. जुर्माने के साथ 02 साल की कठोर कारावास। जुर्माना न भरने की दशा में 03 महीने का अतिरिक्‍त कठोर कारावास

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 376 एवं 506 के तहत सुनाई गई सजा साथ-साथ चलेंगी।

                         


पीडि़ता-बी

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 376 के तहत किए गए अपराध में

15 लाख रू. जुर्माने (जिसमें से 14 लाख रू. मुआवजा के तौर पर पीडि़ता-ए को दिए जाएंगे) के साथ 10 वर्ष कठोर कारावास। जुर्माना न भरने की दशा में 02 साल की अतिरिक्‍त कठोर कारावास

 

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 506 के तहत किए गए अपराध में

10,000 रू. जुर्माने के साथ 02 साल की कठोर कारावास। जुर्माना न भरने की दशा में 03 महीने का अतिरिक्‍त कठोर कारावास

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 376 एवं 506 के तहत सुनाई गई सजा साथ-साथ चलेंगी।

पीडि़ता-ए एवं पीडि़ता-बी के सन्‍दर्भ में ये दो सजाऍं क्रमागत रूप से चलेगीं अर्थात पीडि़ता-बी के सन्‍दर्भ में दी गई सजा, पीडि़ता-ए के सन्‍दर्भ में दी गई सजा के पूरा होने के पश्‍चात शुरू होगी। इस प्रकार, कुल 20 वर्ष की कठोर कारावास की सजा होगी और कुल जुर्माना 30,20,000 रू. होगा।

वर्ष 2002 की आपराधिक विधिक संख्‍या 26994-एम-अदालत के स्‍वत: संज्ञान बनाम राज्‍य मामले में माननीय पंजाब एवं हरियाणा उच्‍च न्‍यायालय, चण्‍डीगढ़ के दिनांक 24.09.2002 के आदेश , जिसमें डेरा सच्‍चा सौदा, सिरसा के प्रमुख बाबा गुरूमीत राम रहीम सिंह द्वारा डेरा सच्‍चा सौदा, सिरसा की साध्वियों के कथित यौन शोषण के मामले की सीबीआई जॉंच के लिए निर्देश था, इस आदेश पर के.अ.ब्‍यूरो ने भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 376, 506 एवं 509 के तहत दिनांक 12.12.2002 को मामला दर्ज किया।

गहन जॉंच के पश्‍चात, सीबीआई ने दिनांक 30.07.2017 को भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 376 एवं 506 के तहत आरोपी गुरूमीत राम रहीम सिंह के विरूद्ध आरोप पत्र दायर किया।  दिनांक 06.09.2008 को आरोपी के विरूद्ध आरोप तय किए गए। विचारण के दौरान, अभियोजन पक्ष ने 15 गवाहों का परीक्षण किया। आरोपी का भी परीक्षण किया गया। इसके पश्‍चात, सर्वोच्‍च न्‍यायालय के आदेश पर एक गवाह का अदालती गवाह के तौर पर परीक्षण किया गया। बचाव पक्ष ने 37 गवाहों का परीक्षण किया। दिनांक 17.08.2017 को अन्तिम बहस सम्‍पन्‍न हुई।

सीबीआई मामलों के विशेष न्‍यायाधीश, पंचकूला (हरियाण) ने आरोपी को भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 376 एवं 506 के तहत दिनांक 25.08.2017 को कसूरवार पाया।

 

  

********