सीबीआई ने सैन्‍य चिकित्‍सा कोर के कर्नल सहित चार आरोपियों को गिरफ्तार किया ; तलाशी ली

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 18.09.2017

सीबीआई ने सैन्‍य चिकित्‍सा कोर, नई दिल्‍ली के कर्नल ; भारतीय चिकित्‍सा परिषद, नई दिल्‍ली के एक अवर श्रेणी लिपिक तथा दिल्‍ली निवासी दो प्राइवेट व्‍यक्तियों  को गिरफ्तार किया।

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 120-बी एवं भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम की धारा, 1988 की धारा 7, 8 व 12   के तहत सैन्‍य चिकित्‍सा कोर, नई दिल्‍ली के कर्नल ; भारतीय चिकित्‍सा परिषद, दिल्‍ली के एक अवर श्रेणी लिपिक ; दो प्राइवेट व्‍यक्तियों ; नि‍जी चिकित्‍सा कॉलेज अस्‍पताल व अनुसंधान केन्‍द्र, पांडिचेरी के चेयरमैन और अन्‍य अज्ञात लोक सेवकों व प्राइवेट व्‍यक्तियों के विरूद्ध मामला दर्ज हुआ।

ऐसा आरोप लगाया गया है कि भारतीय चिकित्‍सा परिषद् के द्वारा मेडिकल कॉलेज में किए जाने वाले निरीक्षणों, संस्‍तुतिओं,पाठ्यक्रमों की मान्‍यता, सीटों की संख्‍या, नोटिसों एवं अन्‍य सदृश प्रशासनिक मामलों सहित संवेदनशील सूचनाओं को साझा करने के लिए भारतीय चिकित्‍सा परिषद् में कार्यरत अवर श्रेणी लिपिक, निजी चिकित्‍सा कॉलेज अस्‍पताल एवं अनुसंधान केन्‍द्र, पांडिचेरी के चेयरमैन एवं सैन्‍य चिकित्‍सा कोर, दिल्‍ली के कर्नल जो कि विभिन्‍न चिकित्‍सा कॉलेजों में निरीक्षण हेतु भारतीय चिकित्‍सा परिषद् के साथ निर्धारक के तौर पर सूचीबद्व था, के साथ नियमित रूप से संम्‍पर्क में था।

ऐसा आगे आरोप था कि उक्‍त दोनो लोक सेवक चिकित्‍सा कॉलेज के उक्‍त चेयरमैन के साथ नियमित सम्‍पर्क में थे और नियमित अन्‍तराल पर सहयोग एवं सूचना हेतु अवैध रिश्‍वत की मॉंग करते थे।

षड़यंत्र में आगे, पश्चिम सागरपुर, नई दिल्‍ली निवासी प्राइवेट व्‍यक्ति को दोनो लोक सेवकों की ओर से कथित रिश्‍वत के तौर पर चाँदनी चौक, नई दिलली के दो हवाला संचालकों से 10 लाख रू. को स्‍वीकार करने के दौरान पकड़ा।

आरोपी व्‍यक्तियों के परिसरों सहित दिल्‍ली, चेन्‍नई व पांडिचेरी में तलाशी ली जिसमें दो करोड़ रू. (लगभग) एवं आपत्तिजनक दस्‍तावेज बरामद हुए।

गिरफ्तार आरोपियों को दिल्‍ली की नामित अदालत के समक्ष आज पेश किया गया और पॉंच दिन की पुलिस हिरासत में भेजा।

 

 

  

********