बैंक के साथ धोखाधड़ी के मामले में विजया बैंक के तत्कालीन शाखा प्रबन्‍धक एवं 10 अन्‍य को तीन वर्ष का कठोर कारावास

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 09.10.2017

सीबीआई मामलों के विशेष न्यायाधीश, विशाखापत्‍तनम् ने विजया बैंक, इलूरू रोड,गोवरनोरपेट, विजयवाड़ा, जिला कृष्‍णा के तत्कालीन शाखा प्रबन्‍धक श्री बन्‍दी बाबू राव को 20,000/- रूपये जुर्माना सहित तीन वर्ष की कठोर कारावास एवं दस प्राइवेट व्‍यक्तियों यथा श्री अनुमुकोण्‍डा वीरा वेंकटा नारायण राव ; श्री दाबूगोहू श्रीनिवास राव ; श्री लागुडु पवन कुमार ; श्री लागुडु दुर्गा प्रसाद ; श्री रून्‍तला हरि प्रसाद ; श्री राम्‍भा गोपीनाथ चन्‍द्रा गुप्‍ता ; श्री बात्‍तीना वीरा वेंकटा रामा गोपाला बाबू ; श्री मारूबोयीना अशोक बाबू ; श्री मक्‍का स्‍टैलिन बाबू एवं श्री गाजुला वेंकटा रामना को प्रत्‍येक पर 15,000/- रूपये जुर्माना सहित तीन वर्ष की कठोर कारावास की सजा सुनाई।

सीबीआई ने इस आरोप के आधार पर मामला दर्ज किया जिसमें वर्ष 2005-06 के दौरान, विजया बैंक, इलूरू रोड,गोवरनोरपेट, विजयवाड़ा के तत्कालीन शाखा प्रबन्‍धक श्री बन्‍दी बाबू राव ने अन्‍य आरोपियों (निर्माणकर्ता, पैनल मूल्‍यांकक एवं ऋणियों) के साथ मिलीभगत एवं बेईमानी से कार्रवाई कर जाली आय प्रमाण पत्र, झूठे मूल्‍यांकन एवं झूठे नगर पालिका के अनुमोदन सहित झूठे दस्‍तावेजों के आधार पर गृह ऋण की मंजूरी दी एवं भुगतान कर दिया। जिसमें विजया बैंक को 169.6 लाख रू. की कथित हानि हुई।

जॉंच के पश्‍चात, आरोपी व्‍यक्तियों के विरूद्ध आरोप पत्र दायर किया।

विचारण अदालत ने आरोपियों को कसूरवार पाया व उन्‍हे दोषी ठहराया।

********