सीबीआई ने कथित घूसखोरी के मामले में केन्‍द्रीय भूजल बोर्ड के एक वैज्ञानिक एवं दो अन्‍य व्‍यक्तियों को गिरफ्तार किया

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 11.10.2017

सीबीआई ने 1.5 लाख रू. की कथित घूसखोरी में वैज्ञानिक-ब, केन्‍द्रीय भूजल बोर्ड, उत्‍तर पश्चिमी क्षेत्र, भूजल भवन, चण्‍डीगढ़ ; तकनीशियन, इंस्‍टीट्यूट ऑफ माइक्रोबियल टेक्‍नोलॉजी, चण्‍डीगढ़ ; एवं एक प्राइवेट व्‍यक्ति को गिरफ्तार किया।

भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 120-बी एवं भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 7, 12, 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(डी) के तहत वैज्ञानिक-बी, केन्‍द्रीय भूजल बोर्ड, उत्‍तर पश्चिमी क्षेत्र, भूजल भवन, चण्‍डीगढ़ ; एक तकनीशियन, इंस्‍टीट्यूट ऑफ माइक्रोबियल टेक्‍नोलॉजी, चण्‍डीगढ़ ; एवं एक प्राइवेट व्‍यक्ति तथा गुड़गॉंव स्थित प्राइवेट फर्म के प्रतिनिधित्‍वकर्ता के विरूद्ध मामला दर्ज किया, जिससे आरोप है कि उक्‍त फर्म के प्रतिनिधित्‍वकर्ता ने औद्योगिक उद्देश्‍य के लिए भूजल दोहन हेतु अनापत्ति प्रमाण पत्र/ अनुमति के लिए आवेदन किया। ऐसा आगे आरोप है कि आरोपी की संस्‍तुति के पश्‍चात, उक्‍त फर्म के प्रतिनिधित्‍वकर्ता का आवेदन सी.जी.डब्‍ल्‍यू.ए., दिल्‍ली के कार्यालय के लिए अग्रेषित किया गया। ऐसा भी आरोप था कि उक्‍त पक्षपात के बदले में अवैध रिश्‍वत के तौर पर दो लाख रू. की धनराशि पर आरोपियों के मध्‍य सहमति बनी। सीबीआई ने जाल बिछाया एवं वैज्ञानिक-ब, सी.जी.डब्‍ल्‍यू.बी., चण्‍डीगढ़ के साथ उक्‍त संस्‍थान के तकनीशियन एवं एक प्राइवेट व्‍यक्ति को 1.50 लाख रू. की कथित घूस की पेशकश एवं मॉंग/ स्‍वीकार करने के दौरान रंगे हाथ पकड़ा। आरोपी के परिसर में तलाशी की गई। 04 लाख रू. (लगभग) की नकद भारतीय मुद्रा ; 500 (लगभग) की अमेरिकन डालर तथा 36000 (लगभग) की जापानी येन के साथ सम्‍पत्ति सहित अन्‍य दस्‍तावेज वैज्ञानिक-ब के अवास से बरामद हुए।

गिरफ्तार आरोपियों को सीबीआई मामलों के विशेष न्‍यायाधीश, चण्‍डीगढ़ के समक्ष आज पेश किया गया व दो दिन की पुलिस हिरासत में भेजा गया।

********