सीबीआई ने 335 करोड़ रू. (लगभग) के चिट फण्‍ड से सम्‍बन्धित धोखाधड़ी के एक मामले में प्राइवेट कम्‍पनी के चेयरमैन एवं तीन अन्‍य के विरूद्ध आरोप पत्र दायर किया

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 01.11.2017

सीबीआई ने चिट फण्‍ड मामले की जारी जॉंच में कोलकाता की प्राइवेट कम्‍पनी में कार्यरत चेयरमैन तथा प्रबन्‍ध निदेशक ; उक्‍त प्राइवेट कम्‍पनी एवं कोलकाता की ही एक अन्‍य प्राइवेट कम्‍पनी के विरूद्ध ए.सी.जे.एम. बरूईपुर, दक्षिण 24 परगना (पश्चिम बंगाल) के समक्ष भारतीय दण्ड संहिता की धारा 120-बी, 409 एवं ईनामी चिट और धन परिचालन स्‍कीम (पाबंदी) अधिनियम, 1978 की धारा 4, 6 के तहत आरोप पत्र दायर किया।

कोलकाता की प्राइवेट कम्‍पनी एवं इसके निदेशक के विरूद्ध वर्ष 2013 में दायर समादेश याचिका संख्‍या 401 में जारी माननीय सर्वोच्‍च न्‍यायालय के दिनांक 09.05.2014 के आदेश पर सीबीआई ने दिनांक 14.11.2014 को भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 406 एवं 420 के तहत एक मामला दर्ज किया। ऐसा आरोप था कि उक्‍त प्राइवेट कम्‍पनी के निदेशकों ने उच्‍च मुनाफे की वापसी का कपटपूर्ण वादा कर अपनी निवेश योजनाओं के तहत निवेशकों से धन एकत्र किया और बाद में वादा की गई धनराशि (335 करोड़ रू. लगभग) को वापस किए बिना ही योजना के संचालन को बन्‍द कर दिया तथा इस व्‍यवसाय को समाप्‍त कर दिया। इस प्रकार, निवेशकों के साथ धोखाधड़ी की।

बड़े पैमाने पर हुए षड़यंत्र एवं धन के नुकसान का पता लगाने के लिए आगे की जॉंच को जारी रखा गया है।

जनमानस को याद रहे कि उपरोक्‍त विवरण सीबीआई द्धारा की गयी जॉंच व इसके द्धारा एकत्र किये गये तथ्‍यों पर आधारित है। भारतीय कानून के तहत आरोपी को तब तक निर्दोष माना जायेगा जब तक कि उचित विचारण के पश्‍चात दोष सिद्ध नही हो जाता।

********