आप्रवासियों के संरक्षक के कार्यालय में कार्यरत तत्‍कालीन कर्मी को एक लाख रू. जुर्माने सहित 05 वर्ष की कठोर कारावास

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 29.12.2017

 सीबीआई मामलों के विशेष न्यायाधीश, हैदराबाद ने आप्रवासियों के संरक्षक के कार्यालय, हैदराबाद में कार्यरत तत्‍कालीन सहायक श्री यशवन्‍त सिंह को दोषी ठहराया एवं उन्‍हें एक लाख रू. जुर्माने सहित 05 वर्ष की कठोर कारावास की सजा सुनाई।

वर्तमान मामला, आप्रवासियों के संरक्षक के कार्यालय, हैदराबाद में कार्यरत सहायक श्री यशवन्‍त सिंह एवं अन्‍य कर्मियों के विरूद्ध दिनांक 01.08.2006 को दर्ज हुआ जिसमें आरोप है कि आरोपी ने प्राइवेट व्‍यक्तियों के साथ षड़यंत्र किया एवं हलफनामों/ आवश्‍यक दस्‍तावेजों को प्राप्‍त किए बिना ही बहुत से पासपोर्टो पर जाली आव्रजन मंजूरी जारी कर दी। आरोपी ने आधिकारिक आव्राजन मुहर/ चिन्‍ह का बेईमानी से प्रयोग एवं उक्‍त प्रपत्र पर हस्‍ताक्षर कर अपने पद का दुरूपयोग किया। जॉंच के पश्‍चात, आरोपी के विरूद्ध आरोप पत्र दायर हुआ।

 

 

 

********