सीबीआई ने व्‍यापम से सम्‍बन्धित मामले में 95 आरोपियों के विरूद्ध आरोप पत्र दायर किया 

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 16.01.2018

सीबीआई ने व्‍यापम मामलों  के विशेष न्‍यायाधीश की अदालत, भोपाल में व्‍यापम द्वारा आयोजित संविदा शाला शिक्षक पात्रता परीक्षा, वर्ग-3 परीक्षा-2011 में हुई अनियमितताओं से सम्‍बन्धित मामले में 83 उम्‍मीदवारों ; 4 व्‍यापम कर्मियों और 8 मध्‍यस्‍थ व्‍यक्तियों सहित 95 आरोपियों के विरूद्ध आरोप पत्र दायर किया।

सीबीआई ने माननीय सर्वोच्‍च न्‍यायालय द्वारा समादेश याचिका (सिविल) संख्‍या 417/2015 के साथ अन्‍य विभिन्‍न याचिकाओं में दिनांक 09.07.2015 के आदेश पर मामला दर्ज किया और मध्‍य प्रदेश व्‍यावसायिक परीक्षा मंडल (व्‍यापम) द्वारा आयोजित संविदा शाला शिक्षक पात्रता परीक्षा वर्ग-3 परीक्षा-2011 में हुई अनियमितताओं के सम्‍बन्‍ध में मध्‍य प्रदेश एस.टी.एफ. द्वारा पूर्व में दर्ज प्राथमिक रिपोर्ट संख्‍या 19/2013 की जॉंच को अपने हाथों में लिया। उक्‍त प्राथमिक सूचना रिपोर्ट भारतीय दण्ड संहिता की धारा 420, 467, 468, 471, 120-बी, आई.टी. अधिनियम की धारा 65/66, मध्‍य प्रदेश मान्‍यता प्राप्‍त अधिनियम, 1937 की धारा 4/3(डी) (1), (2) के तहत 77 उम्‍मीदवारों,जिनके नम्‍बरों को कथित तौर पर बढ़ाया गया था तथा मध्‍यस्‍थ व्‍यक्तियों व व्‍यापम कर्मियों सहित अन्‍यों के विरूद्ध पूर्व में दर्ज की गई थी। एस.टी.एफ. ने 4 आरोप पत्र दायर किए।

तत्‍कालीन प्रिंसिपल सिस्‍टम एनालिस्‍ट व्‍यापम के कम्‍प्‍यूटर की हार्ड डिस्‍क में मिली फाइलों से यह पता चला कि कुछ उम्‍मीदवारों को उक्‍त परीक्षा पास करवाने के लिए उनके नम्‍बरों को कथित रूप से बढ़ाया गया था। इस कार्य का सत्‍यापन, उम्‍मीदवारों की ओ.एम.आर. उत्‍तर प्रपत्र से किया गया और यह पाया गया कि  84 उम्‍मीदवारों को परीक्षा पास करवाने के उद्देश्‍य से उनके नम्‍बरों को अन्तिम परिणाम में बढ़ाया गया था। एक उम्‍मीदवार फरार है और उस मामले में जॉंच जारी है।

 

********