बैंक के साथ धोखाधड़ी करने पर स्टेट बैंक ऑफ मैसूर के तत्कालीन शाखा प्रबन्धक एवं तीन अन्यों को तीन वर्ष की कठोर कारावास

प्रेस विज्ञप्ति
नई दिल्ली, 17.01.2018

सीबीआई मामलों के विशेष न्यायाधीश, भोपाल ने बैंक के साथ धोखाधड़ी करने पर स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, भोपाल में कार्यरत तत्कालीन शाखा प्रबन्धक श्री ए.एस. हेगड़े ; तत्कालीन सहायक प्रबन्धक श्री रविन्द्र कुमार ; मैसर्स तनु श्री होम्स के मालिक एवं श्री राज कुमार राय (प्राइवेट व्यक्ति) को 1.20 रू. से 1.30 लाख रू. के जुर्माने सहित 03 वर्ष की कठोर कारावास की सजा सुनाई।

सीबीआई ने स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, भोपाल में कार्यरत तत्कालीन शाखा प्रबन्ध़क श्री ए.एस. हेगड़े एवं तत्कालीन सहायक प्रबन्धक श्री रविन्द्र कुमार के विरूद्ध स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, मुख्यालय, बंगलौर से प्राप्त शिकायत पर भारतीय दण्ड संहिता की धारा 120-बी के साथ पठित धारा 420 व भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम,1988 की धारा 13(2) के साथ पठित धारा 13(1)(डी) के तहत दिनांक 02.08.2011 को मामला दर्ज किया जिसमें आरोप है कि श्री ए.एस. हेगड़े एवं श्री रविन्द्र कुमार ने वर्ष 2006 से वर्ष 2009 में स्टे ट बैंक ऑफ मैसूर, भोपाल में अपनी तैनाती के दौरान, विभिन्न ऋणियों के नाम पर 21 गृह ऋण को मंजूर एवं भुगतान किया। इन ऋणियों को मैसर्स तनु श्री होम्स के श्री रवि साहू के द्वारा लाया गया था लेकिन इस ऋण से किसी भी प्रकार का निर्माण नही हुआ। इस प्रकार निर्माणकर्ता ने बैंक के साथ 200.40 लाख रू. (लगभग) की धोखाधड़ी की।

जॉंच की समाप्ति के पश्चात, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, भोपाल के तत्कालीन शाखा प्रबन्धक श्री ए.एस. हेगड़े एवं तत्का‍लीन सहायक प्रबन्धक श्री रविन्द्र कुमार ; मैसर्स तनु श्री होम्स के मालिक श्री रवि साहू और गॉव सिलवानी, जिला रायसेन (मध्य प्रदेश) निवासी श्री राज कुमार राय (प्राइवेट व्य‍क्ति) के विरूद्ध सीबीआई मामलों के विशेष न्यायाधीश की अदालत, भोपाल मे आरोप पत्र दायर हुआ।

विचारण अदालत ने आरोपी व्यक्तियों को कसूरवार पाया एवं उन्हें दोषी ठहराया।

********